एक के साथ एक फ्री मिल जाये तो चुदाई में मज़ा आता है

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम है विकास कुजूर और मैं मुंबई का रहने वाला हूँ | मैं देखने में बहुत ही स्मार्ट हूँ और मैं मॉडलिंग भी करता हूँ तो मेरे पास लड़कियों की कमी नहीं रहती | मैं आए दिन नई नई लड़कियां पटाता रहता हूँ और कभी मन हो गया तो चोद भी देता हूँ | ये कहानी मेरी उन्ही चुदाई में से एक की है और इसमें मुझे कुछ ज्यादा ही मज़ा आया था | मैंने एक साथ दो दो लड़कियों को चोदा था और उनके मज़े लिए थे | अब मैं अपनी कहानी पे आता हूँ |

ये कहानी तब कि है जब मैं कॉलेज में पढता था और मेरी एक गर्लफ्रेंड थी अंकिता | अंकिता की एक सहेली थी अनामिका जो की बहुत भोली सी थी लेकिन दुनिया की चमक में बिगड़ रही थी | वो कभी कभी अपने आपको को बहुत मॉडर्न दिखाने की कोशिश करती थी और बहुत ही चालू बनने का नाटक भी करती थी लेकिन थी तो वो बकलोल ही | जब मैं और अंकिता बैठ के बातें करते रहते थे, तो वो हमारे पास आके चिपक जाती थी | हम जो भी करते थे, उसे भी करना होता था | वो बहुत ही चिपकू थी लेकिन दिल की बहुत ही अच्छी थी |

एक बार मैं और अंकिता बैठ के बातें कर रहे थे तो अनामिका मेरे पीछे से आके मेरे आँखों पे हाँथ रख के बोली पहचानो | तो मैंने कहा पता है अनामिका | तो वो अंकिता से बोली देखा बॉयफ्रेंड तुम्हारा है लेकिन पहचानता मुझे है, अच्छे से | तो अंकिता ने कहा कुछ भी हो बॉयफ्रेंड मेरा है, तेरा है कोई ? तो उसने मेरे को पकड़ के कहा हाँ यही है मेरा बॉयफ्रेंड और हसने लगी | फिर कुछ दिनों बाद मैं और अंकिता बैठ के ब्लू फिल्म देख रहे थे तो वो पीछे से आ गई और देखने लगी | फिर उसने अंकिता को पकड़ा और कहा अच्छा तो ये सब करते हो तुम दोनों ? तो अंकिता ने कहा इसमें गलत क्या है हम दोनों एडल्ट है और बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड हैं | तो उसने कहा अच्छा तो अगर मैं भी तुम दोनों के साथ ये देखूं तो तुम लोग बुरा तो नहीं मानोगे |

अंकिता ने मेरी तरफ देखा वो उसको मना करना चाहती थी लेकिन अब उसके मुंह पे कैसे मना करती इसलिए उसने मन मार के कह दिया हाँ | फिर हम दोनों बैठ के ब्लू फिल्म देखने लगे | उस दिन रात को अंकिता ने मुझसे कहा कि तुम अनामिका का मना कर देते ना | तो मैंने उससे कहा कि अगर वो कुछ सीखना चाहती है तो सीखने दो | तो अंकिता ने कहा ठीक है | फिर कभी कभी अनामिका हम दोनों के साथ ब्लू फिल्म देखा करती थी और कभी कभी सिर्फ मैं और अनामिका देख लिया करते थे |

एक बार अंकिता ने मुझ से कहा कि अनामिका उससे पूछ रही थी कि बिना लड़के के कैसे मज़े लूँ ? तो अंकिता ने उसे कहा कि तुम खुद ही अपनी चूत में ऊँगली कर लिया करो और उसने उसे एक डिलडो भी लेके दिया और कहा इसे अपनी चूत में डाला करो | मैं हसने लगा और कहा किसी से बोल दो की कोई अनामिका को चोद दे | तो अंकिता ने कहा तुम ही क्यों नहीं चोद देते | मेरे मन में लड्डू फूटने लगे लेकिन मैंने कहा मैं सिर्फ तुमसे प्यार करता हूँ, तो अंकिता ने कहा कोई नहीं प्यार मुझसे और सैक्स उससे | लेकिन मैंने मना कर दिया |

एक दिन हम तीनो बैठ के ब्लू फिल्म देख रहे थे तो मेरे मोबाइल में बैटरी कम बची थी तो मैंने उसे बंद कर दिया और किसी और के मोबाइल में इन्टरनेट नहीं था | तो अब हमने सैक्स कि बातें शुरू कर दी और एक दुसरे कि सैक्स लाइफ के बारे में जानने लगे | अनामिका ने अंकिता से पूछा कि तुम्हारा कैसा चल रहा है विकास अच्छे से चोदता है ना तुम्हें | अंकिता ने कहा कि मैं तो विकास के लंड की दीवानी हूँ, उसका लंड बड़ा भी है और मोटा भी और जब भी मेरी चूत में घुसता है तो मेरी तो जैसे जान ही निकल जाती है | फिर अनामिका ने मुझसे पूछा कि तुम्हें कैसी लगती है अंकिता की चूत ? तो मैंने कहा कुझे तो बहुत अच्छा लगता है अंकिता को चोदना | तो उसने पूछा कि और अंकिता कि चूत कैसी है ? तो मैंने कहा कि बहुत ही क्यूट सी चूत है इसकी और मैं तो उसमे ही रहना चाहता हूँ | तो दोनों मुस्कुराने लगी | तभी अंकिता ने अनामिका से पूछा और तुम्हारी कैसी चल रही है ? कोई बॉयफ्रेंड मिला की नहीं ? तो अनामिका ने कहा नहीं यार | तो अंकिता ने पूछा अच्छा मतलब सिर्फ डिलडो से ही काम चला रही हो ? तो अनामिका ने मायूस होते हुए कहा हाँ यार |

अंकिता ने कहा किसी लड़के से बोल दे कि मुझे सिर्फ चुदवाना है, वो चोद देगा तुझे | उसने कहा मैं कोई वैश्या नहीं हूँ | फिर अनामिका ने कहा अच्छा चलो अंकिता मैं तुमसे दोस्त होने के नाते एक चीज़ माँगना चाहती हूँ लेकिन वादा करो तुम बुरा नहीं मानोगी | अंकिता ने वादा कर दिया तो अनामिका ने कहा यार प्लीज क्या तुम मुझे एक बार के लिए विकास दे सकती हो ? तो अंकिता ने मुस्कुराते हुए मेरी तरफ देखा और कहा ये तो तुम विकास से ही पूछो | तो अनामिका मेरे करीब आ गई और आँखों में देख कर कहा, प्लीज विकास एक बार के लिए | तो मैंने अंकिता कि ओर देखा तो अंकिता ने इशारे में हामी भर दी |

फिर क्या था उसी दिन कॉलेज से भाग कर हम तीनो अंकिता के रूम चले गए | जोश जागने के लिए मैंने अंकिता के लैपटॉप पर ब्लू फिल्म लगा दी और हम तीनो देखने लगे | फिर अनामिका ने लैपटॉप बंद करके कहा ये सब देखने थोड़ी ना आए हैं | तो अंकिता ने कहा ये रहा विकास शुरू जाओ | तो अनामिका मेरे पास आई और मेरी गोद में बैठ गई और अंकिता से फोटो खींचने को कहा | फिर मेरी और अनामिका की किस करते हुए अंकिता ने फोटो खींची | मैं अनामिका को किस करे जा रहा था तो अंकिता ने कहा बस यार मुझे भी करने दो थोडा | तो अंकिता ने मुझे किस करना शुरू कर दिया और मैं अंकिता के दूध दबाने लगा | उतने में अनामिका मेरा लंड छूने लगी और मुझे गरम करने लगी |

फिर अंकिता ने पैन्ट उतारा और दोनों मेरा लंड चूसने लगी | पहले अंकिता मेरा लंड चूस रही थी और अनामिका मेरे गोटे चाट रही थी फिर थोड़ी देर बाद अनामिका मेरे लंड को चूसने लगी और अंकिता ऊपर आके मुझे किस करने लगी | मुझे यही सोच सोच के मज़ा आ रहा था कि मैं एक साथ दो दो लड़कियों को चोदूंगा | फिर मेरा मुट्ठ निकलने वाला था तो मैंने सारा मुट्ठ उनके हाँथ में गिरा दिया | फिर वो दोनों अन्दर गई और हाँथ धोके आई | तो मैंने कहा कि चलो अब दोनों कपडे उतारो | उन दोनों ने कपडे उतारना शुरू कर दिया लेकिन मेरी नज़र सिर्फ अनामिका पे थी | क्योंकि अंकिता को तो मैं पहले भी देख चुका हूँ |

इसलिए मैं अनामिका को देखे जा रहा था उसने जैसे ही अपना ब्रा उतरा तो मैंने देखा कि उसके दूध छोटे है उससे बड़े तो अंकिता है लेकिन जब उसने अपनी पैंटी उतारी तो मैं समझ गया कि इसकी चूत टाइट होगी | फिर मैं उठके उनके पास गया और अनामिका के दूध दबाने कि कोशिश करने लगा तो अंकिता बोली पकड़ में आया कुछ ? तो मैंने अंकिता के दूध पकड़ के दबाने लगा तो अनामिका ने मुझे पकड़ के किस करना शुरू कर दिया और मेरे लंड को पकड़ के हिलाने लगी | फिर मैंने अनामिका को बिस्तर पर लिटाया और उसकी चूत में अपना लंड डालने लगा | जैसे ही मैंने अपना लंड अन्दर डाला मुझे लगा बहुत टाइट है तो मैंने अपने लंड पे थूक लगाया और उसकी चूत में ज़ोर के झटके से घुसा दिया | उसने चद्दर को ज़ोर से पकड़ लिया और आवाज़ की आअह्ह्ह्ह अआह्हह अआह्हह अआह्हह ऊऊम्म्म्म ऊऊम्म्म्म | फिर अंकिता अनामिका को जाके किस करने लगी और मैं नीचे से उसकी चूत मारने लगा | फिर अंकिता बिस्तर पर लेटी और मैंने अंकिता की चूत मारी लेकिन अब ये ढीली हो चुकी थी | फिर मैं अनामिका को कुतिया की तरह पीछे से चोदना शुरू किया और उसको ज़ोर ज़ोर के झटके मारने लगा | वो अब धीरे धीरे सिस्कारियां अआह्हह अआह्हह अआह्हह ऊऊउफ़्फ़्फ़्फ़् ऊऊम्म्म्म  लेती जा रही थी | थोड़ी देर में मेरा मुट्ठ निकल आया और मैंने पीछे से उसकी गांड पे सारा मुट्ठ गिरा दिया और में अआह्हह अआह्हह अआह्हह करके झड़ गया | वो हाँथ से मुट्ठ को अपनी गांड पे रगड़ने लगी और अंकिता उसकी गांड से मुट्ठ उठा के चाटने लगी | फिर एक घंटे बाद मैंने उनको फिर चोदा और शाम तक हम तीनो ऐसे ही नंगे पड़े थे उसके कमरे में | फिर उसके बाद कई बार मैंने अनामिका को चोदा और उसकी भी चूत को अंकिता की चूत की तरह ढीला कर दिया | दोस्तों आपको मेरी कहानी कैसी लगी कमेंट में जरुर बताइयेगा |

और कहानिया

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *