चुद गयी भाभी नए साल में

छेड़ रहे थे. हम दोनों बिच पर आ गये थे. वहां पर बहुत ठण्ड थी और हम दोनों को सर्दी लग रही थी. भाभी ने पूछा – आपको शादी हो गयी. मैने कहा – हा. फिर उन्होंने पूछा – आप अपनी पत्नी को नहीं लाये. मैने कहा – वो मायके गयी है और प्रोग्राम अचानक से बना और मैं अपने दोस्तों के साथ आ रहा था, तो मैं उनको नहीं लाया. पर यहाँ की ठण्ड देखकर लग रहा है, कि लाना चाहिए था. फिर शरारत से मुस्कुराकर कहा – आपके पास तो भैया है, आपके हीटर.
भाभी थोडा मायूस होकर बोली – क्या हीटर, रात भर दारू पियेंगे, तो सुबह तक तो होश भी नहीं रहेगा. फिर उन्होंने मुझसे पूछा – आप नहीं पीते क्या? मैने मुस्कुराकर कहा – पीता हु, लेकिन दारु नहीं कुछ और. वो बोली – क्या? मैने कहा – मैं सिर्फ दूध पीता हु और मुझे दूध से ही नशा होता है. लेकिन आज तो मुझे दूध भी नहीं मिलेगा. वो बोली – क्यों बिना पिए नीद नहीं आएगी क्या? मैने कहा – मुश्किल है. तो वो बोली – क्यों? मैने कहा – सुबह जो मैने आपको छुआ था, उसके बाद से प्यास और भी बढ़ गयी है. वो मुझे देखते हुए बोली – अच्छा जी, फिर क्या करोगे? मैने कहा – आगे आपकी मर्जी. मेरे इतना कहते ही, वो मुझसे लिपट गयी और मुझसे चूमने लगी. बिच पर ज्यादा लोग नहीं थे. सिर्फ दो-चार कपल ही थे और वो भी चूमा-चाटी में ही मगन थे. इतने में १२ बज गये और आसमान में पटाखे फूटने लगे. हमने भी एक दुसरे को बधाई दी और फिर लिपट गये और मैने उसकी न्यू इयर किस किया. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
हम दोनों के होठ आपस में जुड़े हुए थे और कामुक होकर एक दुसरे को चूस रहे थे. मैने उनको उनके बूब्स दबाकर न्यू इयर की बधाई दी. उसने भी मुझे विश किया और बोली अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है. मैने कहा – चलो होटल वापस चलते है और १५ मिनट बाद हम होटल वापस आ गये. जब हम कमरे में घुसे तो रूम की हालत देखकर दंग रह गये. कोई सोफे में पड़ा था, कोई टेबल पर लेटा था और कोई पलग पर पड़ा था. खाने के भी सारे पैकेट खुले हुए थे. भाभी का मूड ख़राब हो गया और बोली – देखो मैने बोला था ना, कि दारू पीके किसी को होश भी नहीं रहने वाला था. मैने कहा – चलिए मेरे रूम में चलते है और फिर हमने मेरे रूम में जाकर खाना खाया और वो बोली – मैं चेंज करके आती हु. वो अपने कमरे से नाईट ड्रेस ले आई और मुझसे पूछा, क्या मैं आपका वश रूम यूज कर लू. मैं कहा – नहीं; तो वो चौक गयी. मैने फिर से बोला – आप ऐसे ही बहुत अच्छी लगती हु और फिर मैने उसको हग कर लिया और उसके होठो पर किस करने लगा.
वो भी मेरा साथ दे रही थी उसके शरीर से खुशबु आ रही थी, जो मुझे मदहोश कर रही थी. फिर हमने एक दुसरे के एक-एक करके कपडे उतारे और अब हम दोनों बिलकुल नंगे एक दुसरे के सामने खड़े हुए थे. उसके बूब्स बड़े-बड़े थे और कसे हुए एक दम शेप में थे, शायद ज्यादा यूज नहीं हुए थे. मैने उसके बूब्स को पकड़ा और अपने मुह में डाला और दुसरे को अपने हाथ से सहलाना शुरू किया. तो वो बोली – राज धीरे से नहीं, थोडा हार्ड करो ना. आज मुझे वाइल्ड सेक्स करना है. फिर मैं भी वाइल्ड हो गया और उसके बूब्स को पूरी ताकत से मसलने लगा और उसके दुसरे बूब्स को मुह में डालकर उसको जोर से चूसने और काटने लगा. अब मैं बारी-बारी से उसके दोनों बूब्स को मस्ती में जबरदस्त तरीके से चाट रहा था और काट रहा था और अपने हाथ से दबाते हुए मसल रहा था. उसके मुह से कामुक आवाज़े निकल रही थी आअहहहहहहाह हहहहहः क्क्क्कक … नोच डालो मुझे..आज की रात अहहहाहः …. मुझे मार डालो और मुझे नोच डालो …  फिर नीचे अपने घुटनों पर बैठ गयी और मेरे लंड को मुह में ले लिया. वो पागलो की तरह मेरे लंड को चूस रही थी और काट रही थी, बहुत वाइल्ड था ये सब. लेकिन मुझे मज़ा भी आ रहा था.
मैं चुपचाप उससे सक करवा रहा था. वो कभी मेरी बॉल को मुह में लेती, कभी उनको काटती और कभी मेरे लंड को पूरा मुह में ले लेती और उसको डीप थ्रोट तक ले जाती. क्या कमाल की सक्कर थी वो. मैने मैने उसकी चूत को चाटना शुरू किया. उसकी चूत पर छोटे-छोटे बाल थे, शायद कुछ दिन पहले ही सफाई की होगी. मैं अपनी जीभ से उसकी चूत को अन्दर बाहर दोनों जगह से चाट रहा था और वो मोअन कर रही थी आहाहहहाह अहहहहः अहहहहः और बार-बार बोल रही थी, राज तुम मस्त सक्कर हो..चुसो और जोर से चुसो मुझे.. फिर एक टिस भरी आवाज़ से उसने कहा – काश, मेरे उनको भी कोई सेक्स करना सिखा दे और मेरे बाल पकड़कर खीचने लगी और बोली – अब मैं झड़ने वाली हु, राज और मेरे चूसते-चूसते झड़ गयी. मैने उसका थोडा पानी टेस्ट किया. बड़ा नमकीन था. फिर उसने बोला – राज और नहीं, बस अब डाल दो और बर्दाश्त नहीं हो रहा. मैने अपने लंड को उसकी चूत में लगाया और पूरा पेल दिया. पुरे कमरे में फक-फक-फक-फक की आवाज़े हो रही थी और वो बोल रही थी. राज …. फाड़ दो इस चूत को आज ..अहहः. …ऊऊओ….फक मी …ओ ओ ओ.. तुम बहुत मस्त सेक्स करते हो राज. मैने उसको कहा – मुझे अभी तुम्हारी गांड भी मारनी है. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
तो वो बोली – मुझे भी गांड मरवानी है, लेकिन पहले तुम मेरी चूत की प्यास तो बुझाओ, फिर गांड अहहहः अहहहहः. मैने उसे डौगी स्टाइल में किया और उसकी चूत में लंड डाल दिया. वो अपनी गांड को आगे-पीछे करके लंड को पूरा अन्दर ले रही थी और मैं उसकी गांड पर थप्पड़ मार-मारकर उसे चोद रहा था. वो तड़प रही थी और मस्ती में मेरे लंड से अपनी चूत को चुदवा रही थी. फिर मैने उसको बोला – मैं झड़ने वाला हु, कहाँ निकालू. उसने कहा – १ मिनट, मैं अपने मुह में लुंगी. फिर उसने मेरे लंड को अपनी चूत से निकाला और अपने मुह में रख कर चूसने लगी और कुछ सेकंड बाद, मेरा पानी निकल गया और वो मेरा पूरा पानी पी गयी. हम बिस्तर पर नंगे ही पड़े रहे. आधे घंटे बाद, उसने मेरे लंड को फिर से अपने मुह में ले लिया और चूसने लगी. उसने चूसते हुए, मेरे लंड को फिर से खड़ा कर दिया और बोली – मुझे लंड चुसना बहुत पसंद है और भगवान ने लंड हम फीमेल के चूसने के लिए ही बनाया है.  वो बड़े प्यार से मेरे लंड को चूस रही थी. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
वो बोली – राज, आज तक मैने गांड नहीं मरवाई है. धीरे से करना. कोई क्रीम ले लो. मैने क्रीम से अपने लंड को उसके गांड के छेद को चिकना कर लिया और अपने लंड को उसकी गांड के छेद पर रख दिया, तो वो एकदम चिल्लाई. मैने डरकर अपने लंड को हटा लिया और पूछा – क्या हुआ? उसने कहा – कुछ नहीं. पहली बार है, तो थोडा डर लग रहा है. तुम डालो और फिर मैने एक झटके में अपना लंड उसकी गांड में डाल दिया. शुरू में तो उसे थोडा दर्द हुआ, फिर उसे मज़ा आने लगा. फिर उसमे मुझे तेज झटके मारने को बोला और मैने अपनी स्पीड बड़ा दी और उसको पूछा – अबकी बार कहाँ निकालू. उसने कहा – तुम अन्दर ही डाल दो. गांड तो सेफ जोन है. और दस-पंद्रह झटको के बाद मैने अपना रस उसकी गांड में भर दिया. अब हम दोनों काफी थक चुके थे और और ऐसे ही कुछ देर पलग पर लेटे रहे. फिर, उसने अपने कपडे पहने और मैने भी अपने कपडे पहने और अपने दोस्तों को उसके रूम से अपने रूम में ले लाया. उसने मुझे अपना नंबर दिया और अपने सिटी आने को कहा है. कल रात हमने विडियो सेक्स भी किया है और अब उसके सिटी जाना है, उसके बाद आपके पास, एक नयी स्टोरी लेकर हाजिर हो जाऊंगा.
नए साल पर भाभी की चुदाई – कहानी अच्छी लगी तो फेसबुक, ट्विटर और दुसरे सोशियल नेटवर्क पे हमें शेर करना ना भूलें. आप की एक शेर आप को और भी बहतरीन स्टोरियाँ ला के दे सकती हैं.

और कहानिया

 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *