बॉयफ्रेंड से शादी करने के लिए प्रेगनेन्ट हुई

rishton me chudai हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं आशा करती हूँ की आप सभी लोग ठीक ही होगे | दोस्तों मैं आज अपने जीवन की सच्ची कहानी को आप लोगो के सामने प्रस्तुत करने जा रही हूँ | ये मेरी पहली कहानी है तो मैं चाहती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आये अगर आप लोगो को मेरी ये कहानी पसंद आती है तो आप सभी लोग मुझे जरुर बताये | ये मेरी शादी की कहानी है की मैंने अपने बॉयफ्रेंड से शादी करने के लिए क्या किया था | मैं अपनी कहानी को शुरू करने से पहले आप लोगो को अपने बारे में बता देती हूँ | मेरा नाम रीमा है और मैं रहने वाली बिहार की हूँ | मेरी उम्र 22 साल है और मैं अभी पढाई करती हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरी हाईट भी ठीक ठाक है जिससे मैं बहुत सुन्दर लगती हूँ | दोस्तों मैं आप लोगो का ज्यादा टाइम न लेती हुई सीधे कहानी शुरू करती हूँ |
ये कहानी 2 साल पहले की है जब मैं अपनी पढाई कर रही थी | मैं उस टाइम बी कॉम फस्ट इयर में थी | मैं उस टाइम अपने कॉलेज अकेली जाती थी | उसके कुछ ही दिन बाद मैंने स्कूटी लेली और तब मैं कॉलेज स्कूटी से जाने लगी | जब मैं स्कूटी से कॉलेज जाती थी और उसके बाद जब कॉलेज से वापस आती | उस टाइम मुझे एक लड़का रोज रास्ते में मिलता था | वो लड़का दिखने में बहुत स्मार्ट था | वो लकड़ा मुझे रोज उसी टाइम पर मिलता | मैं कुछ दिन तक तो उसे देख कर चली जाती थी | पर वो लड़का मुझे बहुत अच्छा लगता था इसलिए जब मैं उस लड़के के पास पहुचती तो अपनी स्कूटी रोक देती और कुछ न कुछ करने लगती | इस तरह से मैं रोज ही उस लड़के के पास रुक जाती | पर वो लकड़ा मुझे देखने की वजह खड़ा रहता | फिर कोई ऑटो पकड कर चला जाता | मुझे उस लकड़े से पहली नज़र में प्यार हो गया था और जब वो मुझ जैसी हॉट लड़की की तरफ देखता नही था तो मुझे और भी पसंद आ गया | अब मैंने सोच लिए की अगर इसकी कोई गर्लफ्रेंड नही हुई तो मैं इससे ही शादी करुँगी | मैं रोज ही उसे देखने के लिए उसी टाइम पर पर आकर खड़ी हो जाती | इस तरह से मुझे काफी दिन हो गए और उस लकड़े को भी समझ में आ गया था की मैं उसके लिए ही वहां आती हूँ | पर वो लड़का मेरी तरफ मुड़ कर भी नही देखता |
एक दिन की बात है जब मैं उस लकड़े से खुद ही बात करने की कोशिश की | मैं बहुत हिम्मत करने के बाद उस लकड़े से हाय किया | उसने मुझे हाय किया | मैंने उसे अपना नाम बताया और उसका नाम पूछा उसने अपना नाम अरुन बताया | मैंने उससे उस दिन 5 मिनट तक बात की और उसने मुझसे | उसके दुसरे दिन मैं फिर उसी जगह पहुच गयी | मैंने उस दिन अरुन से पुछा तुम कहाँ जा रहे हो | उसने बताया अपने घर | मैं हाँ ये तो मुझे भी पता है पर कहाँ उसने अपनी घर की जगह का नाम बताया | मैंने कहा मैं तो वहीँ से होती हुई जाती हूँ तुम्हे छोड़ दूंगी | अरुन ने मुझसे कहा की मैं किसी अंजान लड़की के साथ नही जा सकता | मैंने कहा मैं तुम्हे पुरे 1 महीने से जानती हूँ और तुम भी मुझे जानते हो चलो बैठ जाओ | अरुन मेंरे इतने कहने पर बैठ गया और बोला की मैंने अभी तक किसी लड़की से बात नही की है इसलिए मुझे डर लगता है | मैं बोली सच में तुमने मुझसे पहले कभी किसी लड़की से बात नही की | अरुन ने कहा हाँ सच में मैंने किसी लड़की से बात नही की | दोस्तों मुझे उस दिन बहुत ख़ुशी हुई और मैं उसके साथ अब रोज ही कॉलेज के बाद जाती | मैं उसे कुछ दिन बाद उसे बता दिया की मैं तुमसे प्यार करती हूँ | वो ये बात सुनकर कुछ देर तो कुछ नही बोला | फिर बोला मुझे भी तुम अच्छी लगती हो पर मेरे इतनी हिम्मत नही थी की मैं तुमसे कह पता |
उस दिन के बाद मैं और अरुन कभी कभी साथ में घुमने भी जाते | मैं उसे अब किस भी करती क्यूंकि वो तो मुझसे कभी इसके बारे में कहने वाला था नही | जब मैं उसको किस करती तो वो भी मुझे करता | इस तरह से हम दोनों एक दुसरे से बहुत ज्यादा ही प्यार करने लगे और अब हम दोनों एक दुसरे के बिना नही जी सकते थे | उसके कुछ दिन के बाद की बाद है मुझे अरुन के साथ घूमते मेरे भैया ने देख लिया | जब मैं घर गई तो मेरे भैया ने मुझसे पूछा वो लकड़ा कौन था जिसके साथ तुम घूम रही थी | मैंने अपने भैया से बिना किसी डर के कह दिया वो मेरा बॉयफ्रेंड है और मैं उससे ही शादी करुँगी | जब ये बात मेरे पापा को पता चली तो पापा ने मेरी शादी की बात दूसरी जगह से करने लगे | मैंने सोचा कुछ हो इससे पहले मुझे कुछ करना होगा | ये बात मैंने अरुन से बताई और कहा हम दोनों चल कर कोट मैरिज कर लेते हैं | तब अरुन ने कहा मैं ऐसा नही कर सकता नही तो मेरी मम्मी को बहुत बुरा लगेगा | तब मैंने अरुन से कहा तुम्हरे घर वाले मान जायेगे हमारी शादी के लिए | अरुन ने कहा हाँ मैं अपने घर वालो को माना लूँगा | उस दिन मैंने अरुन का हाथ पकड़ा और उसे अपने साथ ले गयी |
मैं उसे अपने साथ एक होटल में ली गयी | उस होटल में जाने के बाद मैंने अपने कपडे निकाल दिए और मैं उसे सामने ब्रा और पैंटी में आ गयी | वो मुझे ऐसे देख कर समझ गया की क्या करना चाहिय | वो मेरी कमर में हाथ डाल कर मुझे अपनी और खीच लिया | फिर मेरी होठो पर अपनी होठो को रख कर मेरी होठो को चूसने लगा | मैं भी उसकी होठो को चूसने लगी | वो मेरी होठो को चूसने के साथ मेरे बूब्स को ब्रा के ऊपर से दबाने लगा | वो मेरी होठो को चूस रहा था और मैं उसकी होठो को चूस रही थी | हम दोनों ऐसे ही कुछ देर तक एक दुसरे की होठो को चूसते रहे | फिर मुझे बेड पर लेटा कर मेरी ब्रा भी खोल दी और वो मेरे एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा | वो मेरे एक दूध को मुंह में रख कर चूस रहा था और दुसरे वाले दूध को हाथ में पकड कर दबा रहा था | वो मेरे बूब्स को चूस रहा था और मैं उसके सर को सहला रही थी | वो मेरे दोनों बूब्स को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद उसने मेरी पैंटी को निकाल दिया | वो मेरी पैंटी को निकालने के बाद मेरी चूत को चाटने लगा | वो मेरी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर चाट रहा था | उसकी जीभ के स्पर्स से मेरे जिस्म में आग लग गई और मैं बिस्तर को कस के पकड कर इधर उधर होने लगी | मेरे अन्दर एक आग लग गई थी जिसकी वजह से अब मुझसे रहा नही जा रहा था | वो मेरी चूत में अपनी जीभ को घुसाने के साथ मेरी चूत में अपनी ऊँगली भी घुसा दी | मेरे मुंह से आ आ आ आ…. उ उ उ उ उ….. उई उई उई उई…. सी सी सी सी… उई उई उई उई.. की सिसकियाँ निकल गयी | अरुन मेरी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक करने के बाद उसने अपने कपडे निकाल दिए | मैं उसके लंड को अपने हाथ में पकड कर घुटनों के बल बैठ गयी | मैं घुटनों के बल बैठ कर उसके लंड को मुंह में रख कर चूसने लगी | मैं उसके लंड को मुंह में रख कर कुछ देर तक चूसती रही |

फिर अरुन अपने लंड को मुंह से निकाल कर मेरी टांगो को फैला कर मेरी चूत में लंड को घुसा दिया | ये मेरी पहली चुदाई थी जिसकी वजह से मेरी चूत टाईट थी | पर अरुन ने थूक लगा कर मेरी चूत में घुसा दिया | मुझे दर्द तो बहुत हुआ और मेरे मुंह से चीख भी निकाल गयी | पर मैं बिस्तर को कस के पकड कर लेटी रही | वो मेरी कमर को पकड कर जोरदार धक्को मारने लगा | वो मेरी चूत में जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए मुझे चोदने लगा | मैं मस्त होकर चुद रही थी | वो मेरी चूत में लंड को अन्दर बाहर करते हुए चोद रहा था | मैं उसका साथ देती हुई चुद रही थी | कुछ देर में उसने धक्को की स्पीड इतनी तेज कर दी की धक्को की आवाज कमरे में घुजने लगी | मैं जोर जोर से आ आ आ… ह ह ह ह ह.. हाँ हाँ हाँ हाँ….उई उई उई… इ इ इ इ.. की सेक्सी आवाजे कर रही थी | वो मुझे ऐसे ही चोदने के बाद मेरी चूत में ही झड़ गया |
फिर मैंने उसके लंड को दुबारा चुदने के लिए तैयार किया | उसने मेरी दुबारा मस्त चुदाई की | उस दिन अरुन ने मेरी 3 बार चुदाई की और तीनो बार वो मेरी चूत में ही झड़ गया | उसके कुछ महीनो बाद मैं प्रेगनेन्ट हो गयी और जिसकी वजह से मेरे पापा को अरुन से शादी करनी पड़ी | पापा ने अपनी इज्जत बचाने के लिए मेरी और अरुन की शादी करा दी | अब मैं और मेरे पति अरुन बहुत खुश हैं |
धन्यवाद………….

और कहानिया

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *